अजमेर शरीफ दरगाह में पिछले 450 वर्षों से हर दिन 2,400 किलो ‘खिचड़ी’ तैयार की जाती है|

अजमेर शरीफ दरगाह में पिछले 450 वर्षों से हर दिन 2,400 किलो ‘खिचड़ी’ तैयार की जाती है|

अजमेर: ‘द वर्ल्ड फ़ूड इंडिया’ कार्यक्रम में 50 सदस्यों द्वारा 918 किलो खिचड़ी तैयार की गयी थी| जो इतिहास का सबसे बड़ा भोजन माना गया है| यह कार्यक्रम दिल्ली में आयोजित किया गया था| इस पर दावा करते हुए अजमेर शरीफ़ दरगाह के सय्यद सलमान चिश्ती ने कहा कि अजमेर दरगाह में रोज़ाना लगभग 2400 किलो शाकाहारी मीठे चावल पकाया जाता है।

सलमान चिश्ती ने दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम पर अपनी राय व्यक्त करते हुए कहा कि यह विवरण प्राप्त करना और अपना नाम करने के लिए किया गया था यह महज एक दिखावा है| सय्यद सलमान चिश्ती के अनुसार  उन्होंने गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के लिए आवेदन करने पर विचार नहीं किया। उनका मानना है की हम बस सूफ़ी के रूप में ऐसा काम करते हैं और हम प्रचार में नहीं रहना चाहते हैं| लेकिन हमारा काम स्वीकार किया जाना चाहिए|

चिश्ती ने कहा कि पिछले 450 वर्षों में लगभग 2,400 किलोग्राम चावल का भोजन दरगाह में तैयार किया जाता है| ये पकवान दो बर्तनों में क्रमशः 1600 किलो और 800 किलो की क्षमता के साथ पकाया जाता है।उन्होंने कहा कि चार परिवारों के लिए लगभग 20 पारंपरिक व्यंजन तैयार किये जाते हैं।

 

शरीफ़ उल्लाह

Top Stories