आप के चुनाव चिह्न पर खतरा, चुनाव आयोग का नोटिस

आप के चुनाव चिह्न पर खतरा, चुनाव आयोग का नोटिस

दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) की मान्यता और चुनाव चिह्न पर खतरा मंडरा रहा है। चुनावी चंदे में विसंगतियां मिलने पर मंगलवार को चुनाव आयोग ने पार्टी को नोटिस जारी कर पूछा कि क्यों न आप का चुनाव चिह्न रद्द कर दिया जाए।

आयोग ने नोटिस में दावा किया है कि हवाला ऑपरेटरों के जरिये लेनदेन को पार्टी ने गलत तरीके से स्वैच्छिक दान के रूप में दिखाया। पार्टी को 20 दिन में अपना पक्ष रखने को कहा गया है।आयोग ने कहा है कि ‘आप’ ने 30 सितंबर 2015 को वित्त वर्ष 2014-15 के लिए मूल दान रिपोर्ट सौंपी थी। बाद में पार्टी ने 20 मार्च 2017 को संशोधित रिपोर्ट दी। सीबीडीटी से जो रिपोर्ट मिली उसके मुताबिक ‘आप’ ने गुप्त तरीके से मिले दान को छिपाने की कोशिश की। पार्टी के बैंक खाते में 67.67 करोड़ जमा हुए जबकि पार्टी ने 54.15 करोड़ रुपये ही दिखाए। यानि 13.16 करोड़ का हिसाब नहीं मिला है।

गलत तथ्यों का आकलन

आम आदमी पार्टी ने कहा है कि आयोग ने गलत तथ्यों पर आकलन किया है। पार्टी के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष एनडी गुप्ता के मुताबिक वित्तीय वर्ष 2014-15 की जो रिपोर्ट बाद में आयोग को सौंपी गई थी वह सही है। पार्टी जल्द ही आयोग के समक्ष इसका जवाब पेश करेगी।

Top Stories