एशियाई खेल : शार्दूल को रजत और अंकिता ने जीता कांस्य, 10वें स्थान पर भारत

एशियाई खेल : शार्दूल को रजत और अंकिता ने जीता कांस्य, 10वें स्थान पर भारत

जकार्ता :एशियाई खेलों का पांचवां दिन भारत के लिए बेशक दो पदक लेकर आया, लेकिन बीते सात संस्करणों से स्वर्ण जीतती आ रही पुरुष कबड्डी टीम की असमय हार देश के लिए बड़ी निराशा लेकर भी आई।

निशानेबाजी में शार्दूल विहान ने पुरुषों की ट्रैप स्पर्धा में रजत पदक अपने नाम किया। 15 साल का यह निशानेबाज इन एशियाई खेलों में पदक जीतने वाला सबसे युवा भारतीय बन गया है। उनके अलावा दिन का दूसरा पदक टेनिस में आया जहां अंकिता रैना को महिला एकल वर्ग में कांस्य पदक मिला। भारत ने हालांकि अन्य खेलों में कुछ पदक पक्के कर लिए हैं।

शार्दूल ने गुरुवार को निशानेबाजी में पदकों के सिलसिले को रुकने नहीं दिया। उन्होंने फाइनल में 73 अंकों के साथ रजत पदक पर कब्जा जमाया। इस स्पर्धा में राष्ट्रमंडल खेलों के पदक विजेता अंकुर मित्तल भी थे, लेकिन वह क्वालीफिकेशन में नौवें स्थान पर रहकर फाइनल में नहीं जा सके।

महिलाओं की डबल ट्रैप स्पर्धा में श्रेयसी सिंह और वर्षा पदक नहीं ला सकीं। श्रेयसी ने फाइनल में 121 अंकों के साथ छठा स्थान हासिल किया। वर्षा को सांतवां स्थान मिला। टेनिस में अंकिता को महिला एकल वर्ग के सेमीफाइनल में चीन की शुआई जैंग ने 6-4, 7-6 से परास्त कर उन्हें कांस्य तक ही रोक दिया। टेनिस में हालांकि भारत का एक रजत और एक कांस्य पक्क हो गया है।

पुरुष युगल वर्ग में रोहन बोपन्ना और दिविज शरण की जोड़ी ने तीन सेटों तक चले रोमांचक सेमीफाइनल मुकाबले में जापान के काइतो युसूगी और एस. शिमाबुकूरो की जोड़ी को 6-4, 6-3 से मात देकर फाइनल का टिकट कटाया।

पुरुष एकल वर्ग में गुणास्वरन प्रजनेश ने बेहद कड़े मैराथन मुकाबले में दक्षिण कोरिया के सूनवू कवोन को 6 (2)-7, 6-4, 7-6 (8) से मात देकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया।

मिश्रित युगल वर्ग में बोपन्ना और अंकिता की भारतीय जोड़ी को क्वार्टर फाइनल में मेजबान देश इंडोनेशिया की अलडिला सुटजियादी और क्रिस्टोफर रुंगकैट की जोड़ी ने कड़े मुकाबल में 6-4, 1-6, 10-6 से मात देकर सेमीफाइनल में कदम रखा।

विश्व कबड्डी की सरताज भारतीय पुरुष टीम को सेमीफाइनल में ईरान के हाथों 18-27 से शर्मनाक हार झेलकर कांस्य पदक से ही संतोष करना पड़ा। जबकि, महिला टीम ने फाइनल में पहुंचकर रजत पदक पक्का कर लिया।

1990 में कबड्डी को एशियाई खेलों में शामिल करने के 28 साल बाद यह पहली बार है जब भारतीय पुरुष टीम स्वर्ण पदक अपने घर न ला सकी। भारतीय टीन ने इससे पहले एशियाई खेलों के साथ साथ विश्व कप, एशिया कप और दक्षिण एशियाई खेलों, सभी में खिताब जीते थे।

ईरान की कबड्डी टीम के लिए किसी भी टूर्नामेंट के नॉकआउट चरण में भारत के खिलाफ यह पहली जीत है। भारत की महिला टीम ने सेमीफाइनल में चीनी ताइपे को 27-14 से परास्त कर फाइनल में प्रवेश कर पदक पक्का कर लिया।

बैडमिंटन में भी भारत को पहले दिन अच्छी सफलता मिली। पी.वी सिंधु ने महिला एकल वर्ग में वियतनाम की थी रांग वु को 58 मिनट तक चले मुकाबले में 21-10, 12-21, 23-21 से मात दी। सायना नेहवाल ने ईरान की सुरैया को सीधे गेमों में 21-7, 21-9 से मात दी।

अश्विनी पोनप्पा और एन.सिक्की रेड्डी ने महिला युगल वर्ग में हांगकांग की एनजीए येउंग और एनजी विंग की जोड़ी को 21-16, 21-15 से हराया। महिला युगल वर्ग के मैच में रितुपरणा पांडा और आरती सारा सुनिल को थाईलैंड की फाटाईमास मुयेनवोंग व चायालिथ की जोड़ी ने 21-11, 21-6 से परास्त किया।

पुरुष युगल में सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी ने हांगकांग की चुन हेई ताम और योनी चुंग को 21-12, 21-14 से परास्त किया। वहीं, मनु अत्री और बी. सुमित रेड्डी ने मालदीव के मोहम्मद राशिद और तोएफ मोहम्मद को 21-10, 21-8 से शिकस्त दी।

मिश्रित युगल में हालांकि अश्विनी और रंकीरेड्डी के अलावा प्रणव जैरी चोपड़ा तथा सिक्की रेड्डी की जोड़ी अंतिम-32 के मैच में हार कर बाहर हो गई।

स्क्वॉश में महिला एकल वर्ग में दीपिका पल्लीकल और जोशना चिनप्पा ने अपने-अपने अंतिम-16 के मैचों में जीत हासिल करते हुए क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई। वहीं सौरभ घोषाल तथा हरविंदर पाल सिंह संधू ने भी क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया है। यह दोनों अंतिम-8 में आमने-सामने होंगे और जो सेमीफाइनल में पहुंचेगा, वो कम से कम कांस्य लेकर आएगा।

भारतीय महिला बास्केटबॉल टीम को इंडोनेशिया ने ग्रुप-ए के अंतिम मुकाबले में 69-66 से हराते हुए क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया। भारत की यह लगातार चौथी हार है। यह मैच हालांकि काफी रोचक रहा जिसमें इंडोनेशिया ने अंतिम समय में शानदार खेल दिखाते हुए भारत को जीत से महरूम कर दिया।

तैराकी में भारत के वीरधवल खड़े पुरुषों की 50 मीटर बटरफ्लाई स्पर्धा में 24.48 सेकेंड का समय निकालते हुए आठवें स्थान पर रहे। वहीं श्रीहरि नटराज को 200 मीटर बैकस्ट्रोक स्पर्धा में छठा स्थान हासिल हुआ। उन्होंने फाइनल में दो मिनट 02.83 सेकेंड का समय निकाला।

Top Stories