नागपुर में आईएसआई एजेंटों की गिरफ्तारी की फर्जी कॉल पर आर्मी का सिपाही हिरासत में

नागपुर में आईएसआई एजेंटों की गिरफ्तारी की फर्जी कॉल पर आर्मी का सिपाही हिरासत में
Policemen simulate an arrest during national security day in Nice, southeastern France, October 10, 2009. REUTERS/Eric Gaillard (FRANCE CRIME LAW SOCIETY)

सेना की खुफिया इकाई ने महाराष्ट्र के नागपुर शहर में आईएएस एजेंटों की गिरफ्तारी के बारे में अपने मोबाइल फोन से एक फर्जी कॉल करने वाले सेना के एक सिपाही को हिरासत में लिया. पुलिस सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी. बीते आठ नवंबर को गणेशपीठ पुलिस के पास एक व्यक्ति का फोन आया, जिसने बताया कि वह सैन्य खु्फिया की मुंबई इकाई में एक मेजर हैं और उसने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के दो एजेंटों को पकड़ा है.

पुलिस ने बाद में पाया कि शहर में सैन्य खुफिया या किसी अन्य एजेंसी ने इस तरह का कोई अभियान नहीं चलाया. जिस नंबर से फोन आया था वह हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में सेना की आपूर्ति कोर में तैनात सिपाही पंकज येरगुदा के नाम पर पंजीकृत मिला.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि हिमाचल प्रदेश की सेना की खुफिया इकाई ने मंगलवार को येरगुदा को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया. अधिकारी ने बताया कि उसने अपने फोन से किसी तरह की कॉल होने की जानकारी होने से इनकार किया है. एक अधिकारी ने बताया कि गणेशपीठ पुलिस ने इस मामले में आईपीसी की धारा 419 और 505 के तहत एक मामला दर्ज किया.

नागपुर पुलिस आयुक्त डॉ. बी.के. उपाध्याय ने बताया कि मामले में आगे की जांच के लिए पुलिस सेना से येदगुदा को सौंपने का आग्रह करेगी.इंस्पेक्टर सुनील गेंगुरदे ने बताया कि येरगुदा महाराष्ट्र के चंद्रपुर जिले में भद्रावती शहर का रहने वाला है.

Top Stories