मुस्लिम तहफ़्फुज़ात: बेहतर् नुमाइंदगी के लिए प्रोफार्मा जारी

मुस्लिम तहफ़्फुज़ात: बेहतर् नुमाइंदगी के लिए प्रोफार्मा जारी

हैदराबाद 08 सितंबर: तेलंगाना के मुसलमानों को 12 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात के लिए रोज़नामा सियासत की तहरीक का आग़ाज़ हो गया। एडीटर सियासत ज़ाहिद अली ख़ां ने तहरीक के मतन और शऊर बेदारी-ओ-नुमाइंदगी में आसानी के लिए मकतूब नुमाइंदगी का नमूना ( प्रोफार्मा) जारी किया ताके तमाम मुसलमानों की नुमाइंदगी का मक़सद एक हो और किसी किस्म की कोई क़ानूनी रुकावट पैदा ना हो।

याद रहे कि इदारा रोज़नामा सियासत की क़ियादत में जारी इस तहरीक में मुस्लिम एम्पावरमेंट मूमेंट का इश्तिराक भी शामिल है। एडीटर सियासत ने तहरीक के लिए इंतेहाई एहमीयत के हामिल मवाद को जो दो ज़मरों पर मुश्तमिल किया गया है जारी कर दिया और अख़बार सियासत के सफ़ा नंबर ( 8 ) पर भी इस मवाद मतन को शाय किया गया है ताके मुसलमानों को तहरीक में नुमाइंदगी के लिए आसानी हो।

मुसलमानों को तालीमी मैदान और रोज़गार के मवाक़े फ़राहम करने में बरसों से सरगर्म सियासत ने तहफ़्फुज़ात के वादे में ताख़ीर और मुलाज़िमतों के आलामीया की इजराई पर तशवीश ज़ाहिर की है और जमहूरी हक़ के लिए मुसलमानों में शऊर बेदार करने का फ़ैसला किया है।

हुकूमत तेलंगाना ने एक लाख 7 हज़ार जायदादों पर भर्ती का इरादा किया है और फ़िलहाल 15 हज़ार मुलाज़िमतों पर तक़र्रुर के लिए आलामीया जारी कर दिया गया है जिसके तहत 18 सौ मुलाज़िमतें मुसलमानों को आनी चाहीए लेकिन 12 फ़ीसद के बजाये अब सिर्फ 4 फ़ीसद के तहत 6 सौ मुलाज़िमतें हासिल होंगी और 1242 मुलाज़िमतों का नुक़्सान हो रहा है।

एडीटर सियासत की तरफ से जारी करदा मवाद में दो किस्म की नुमाइंदगी के लिए रहनुमाई की गई है। एक सियासी क़ाइदीन से की जाने वाली नुमाइंदगी का मवाद तो दूसरा सरकारी ओहदेदारों से की जाने वाली नुमाइंदगी का मवाद शामिल है। इस मवाद की इजराई का अहम मक़सद मुसलमानों को 12 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात को बग़ैर रुकावट यक़ीनी बनाना है चूँकि जब हमारी नुमाइंदगी में ही फ़र्क़ और ऊंच नीच रही तो हम इस अज़ीम मौके से फ़ायदा उठाने में नाकाम रह जाऐंगे।

इस मवाद को लेकर अपने अपने लेटरहेड, तंज़ीम, कमेटी, मसाजिद कमेटी , दीनी-ओ-मिली इदारों के ज़िम्मेदारों को चाहीए कि वो भी नुमाइंदगी करें। मंडल सतह पर तहसीलदार , डीवीझ़न सतह पर आर डी ओ और ज़िलई सतह पर कलेक्टर से नुमाइंदगीयाँ की जानी चाहीए।

उस के अलावा दूसरे मवाद में जो सियासी क़ाइदीन से नुमाइंदगी के लिए जारी किया जा रहा है। इस की मदद से सरपंच, मंडल प्रेसीडेंट, ज़िला परिषद रुकन, मंडल प्रेसीडेंट, ज़िला परिषद चैरमैन , इंचार्ज वज़ीर, वुज़रा, अरकाने असेंबली , अरकाने पार्लियामेंट वार्ड मैंबर , मुंसिपल कौंसिलर, मुंसिपल चैरमैन , मेयर, बलदिया के अलावा इलाके के मुंतख़ब सीयासी क़ाइदीन को भी अपनी नुमाइंदगी पेश करें।

सियासत ने मुसलमानों से ख़ाहिश की के वो क़ौम के हक़ में नौजवान नसल के रोशन मुस्तक़बिल के लिए चलाई जा रही तहरीक में फ़ौरी शामिल होजाएं और नुमाइंदगी के बाद तसावीर सियासत और मुस्लिम एम्पावरमेंट को ईमेल एड्रेस पर रवाना करें।

ताहम इस मर्तबा पूरे होश हवास से नुमाइंदगी की ज़रूरत है चूँकि इस मौके के बाद दुबारा 10 साल तक एसा कोई मौक़ा आने वाला नहीं है और बी सी कमीशन की सिफ़ारिश और जल्द अज़ जल्द 12 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात पर अमल आवरी के लिए हुकूमत पर दबाओ डाला जाये चूँकि तेलंगाना में 12.43 फ़ीसद मुस्लिम आबादी है और इस आबादी का 85 फ़ीसद हिस्सा कमज़ोर तबक़ात और पसमांदगी का शिकार है।

तहफ़्फुज़ात ना होने के सबब मुसलमानों में तर्क तालीम का फ़ीसद बढ़ता जा रहा है और मुलाज़िमतों में हिस्सा दारी ना होने के सबब मुस्लमान दिन बह दिन पसमांदगी और सतह ग़ुर्बत से नीचे की ज़िंदगी बसर करने पर मजबूर हैं। सियासत ने मुसलमानों को तहफ़्फुज़ात की ताख़ीर के ख़ौफ़ से तहरीक का आग़ाज़ किया है नुमाइंदगी के बाद इस मेल आई डी siasat.muslimempowerment@gmail.com । whatsapp:8712900055 पर तसावीर-ओ-मवाद रवाना करें।

Top Stories