मैं इस बिल को रिजेक्ट करता हूं, मुसलमान शरिया कानून को मानते रहेंगेः असदुद्दीन ओवैसी

मैं इस बिल को रिजेक्ट करता हूं, मुसलमान शरिया कानून को मानते रहेंगेः असदुद्दीन ओवैसी

ट्रिपल तलाक बिल पर संसद में चर्चा के दौरान गुरूवार को हैदराबाद से सांसद और एआईएमआईएम के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कहा कि सबरीमाला का फैसले पर आपकी मान्यता आ जाती है तो क्या आपकी मान्यता और हमारी मान्यता में अंतर है. उन्होंने कहा कि गाड़ी से टक्कर में 2 साल की सजा और तीन तलाक पर तीन साल की सजा, ये कैसा न्याय है. उन्होंने कहा कि आपका निशाना कहीं और है आप सिर्फ इस कानून की आड़ ले रहे हैं. ओवैसी ने कहा कि हमारे समाज में समलैंगिकता को मान्यता दे दी गई लेकिन तीन तलाक को आप अपराध बना रहे हैं, उसकी वजह है कि वो कानून हमारे खिलाफ लागू होगा.

 

ट्रिपल तलाक बिल पर संसद में चर्चा के दौरान गुरूवार को हैदराबाद से सांसद और एआईएमआईएम के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कहा कि सबरीमाला का फैसले पर आपकी मान्यता आ जाती है तो क्या आपकी मान्यता और हमारी मान्यता में अंतर है. उन्होंने कहा कि गाड़ी से टक्कर में 2 साल की सजा और तीन तलाक पर तीन साल की सजा, ये कैसा न्याय है. उन्होंने कहा कि आपका निशाना कहीं और है आप सिर्फ इस कानून की आड़ ले रहे हैं. ओवैसी ने कहा कि हमारे समाज में समलैंगिकता को मान्यता दे दी गई लेकिन तीन तलाक को आप अपराध बना रहे हैं, उसकी वजह है कि वो कानून हमारे खिलाफ लागू होगा.

ट्रिपल तलाक बिल पर संसद में चर्चा के दौरान गुरूवार को हैदराबाद से सांसद और एआईएमआईएम के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कहा कि सबरीमाला का फैसले पर आपकी मान्यता आ जाती है तो क्या आपकी मान्यता और हमारी मान्यता में अंतर है. उन्होंने कहा कि गाड़ी से टक्कर में 2 साल की सजा और तीन तलाक पर तीन साल की सजा, ये कैसा न्याय है. उन्होंने कहा कि आपका निशाना कहीं और है आप सिर्फ इस कानून की आड़ ले रहे हैं. ओवैसी ने कहा कि हमारे समाज में समलैंगिकता को मान्यता दे दी गई लेकिन तीन तलाक को आप अपराध बना रहे हैं, उसकी वजह है कि वो कानून हमारे खिलाफ लागू होगा.

 

ट्रिपल तलाक बिल पर संसद में चर्चा के दौरान गुरूवार को हैदराबाद से सांसद और एआईएमआईएम के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कहा कि सबरीमाला का फैसले पर आपकी मान्यता आ जाती है तो क्या आपकी मान्यता और हमारी मान्यता में अंतर है. उन्होंने कहा कि गाड़ी से टक्कर में 2 साल की सजा और तीन तलाक पर तीन साल की सजा, ये कैसा न्याय है. उन्होंने कहा कि आपका निशाना कहीं और है आप सिर्फ इस कानून की आड़ ले रहे हैं. ओवैसी ने कहा कि हमारे समाज में समलैंगिकता को मान्यता दे दी गई लेकिन तीन तलाक को आप अपराध बना रहे हैं, उसकी वजह है कि वो कानून हमारे खिलाफ लागू होगा.

Top Stories