सचिन तेंदुलकर ने खुलासा किया कि कैसे विव रिचर्ड्स ने उन्हें 2007 में रिटायर नहीं होने के लिए मनाया था!

सचिन तेंदुलकर ने खुलासा किया कि कैसे विव रिचर्ड्स ने उन्हें 2007 में रिटायर नहीं होने के लिए मनाया था!

बैटिंग आइकन सचिन तेंदुलकर ने रविवार को खुलासा किया कि कैसे वेस्ट इंडीज के दिग्गज खिलाड़ी विव रिचर्ड्स के साथ 45 मिनट लंबी फोन पर बातचीत ने उन्हें 2007 में खेल से वापस नहीं लेने के लिए मना लिया था।

बांग्लादेश और श्रीलंका को हार के बाद भारत को 2007 के विश्व कप से बाहर कर दिया गया था और राहुल द्रविड़-पक्ष ने बहुत आलोचना की थी। सचिन के पास भी पूरी तरह से यादगार टूर्नामेंट नहीं था क्योंकि वह 3 मैचों में केवल 64 रन ही बना सके। इससे उन्हें विश्वास हो गया कि वह इसे खेल से हटकर कदम बढ़ाएंगे।

तेंदुलकर ने इंडिया टुडे से कहा, “मुझे लगा कि यह था। उस समय, भारतीय क्रिकेट के आसपास बहुत सारी चीजें स्वस्थ नहीं थीं। हमें कुछ बदलावों की जरूरत थी और मुझे लगा कि अगर ये बदलाव नहीं हुआ तो मैं क्रिकेट छोड़ने जा रहा हूं। मुझे क्रिकेट छोड़ने का लगभग 90 प्रतिशत यकीन था। लेकिन मेरे भाई ने मुझे बताया कि 2011 में मुंबई में विश्व कप फाइनल है, क्या आप उस खूबसूरत ट्रॉफी को अपने हाथ में रखने की कल्पना कर सकते हैं?”

तेंदुलकर ने कहा, “इसके बाद मैं अपने फार्महाउस में चला गया और तभी मुझे सर विव का फोन आया और कहा कि मुझे पता है कि तुम्हारे अंदर काफी क्रिकेट बाकी है। हमारे बीच लगभग 45 मिनट तक बातचीत हुई और यह बहुत ही हृदयस्पर्शी थी क्योंकि जब आपका बल्लेबाजी करने वाला हीरो आपको बुलाता है तो इसका मतलब बहुत होता है। वह पल मेरे लिए चीजें बदल गयी थी और उस पल से मैंने भी बहुत बेहतर प्रदर्शन किया।”

Top Stories