एक ही दिन में कनॉट प्लेस समेत चार जगहों पर हुए थे बम धमाके

एक ही दिन में कनॉट प्लेस समेत चार जगहों पर हुए थे बम धमाके

साल के नौवें महीने का यह 13वां दिन दरअसल साल का 256वॉ दिन है और साल पूरा होने में अभी 109 दिन बाकी हैं। आज का यह दिन देश के इतिहास में आतंकवाद की एक बड़ी घटना के साथ दर्ज है । भारत के साथ दुनिया में आज के दिन की बड़ी घटनायें सामने आई।

आतंकियों ने दिल्ली का दिल माने जाने वाले कनाट प्लेस में धमाका किया और करोल बाग की व्यस्त गफ्फार मार्केट के साथ ही भीडभाड़ वाले ग्रेटर कैलाश-वन में भी बम विस्फोट किए गए।आतंकवादियों ने 2008 में शनिवार के दिन देश की अति सुरक्षित मानी जाने वाली राजधानी में 30 मिनट के अंतराल पर व्यस्त स्थानों पर चार बम विस्फोट किए थे। कई स्थानों से समय रहते बम बरामद करके जानमाल के नुकसान को बढ़ने से रोका गया।

1922 में आज के दिन लिबिया के एल अजिजिया में धरती पर अब तक का उच्चतम तापमान 136.4 डिग्री एफ (58 डिग्री सी) दर्ज किया गया। ये दुनिया के सबसे गर्म जगह के तौर पर दर्ज हो चुकी है।

1923 में स्पेन में आज ही सैन्य तख्ता पलट हुआ था। मिगेल डे प्रिमो रिवेरा ने सत्ता संभाली और तानाशाह सरकार की स्थापना की।

1929 में आज के दिन भारत के प्रसिद्ध क्रांतिकारी जतीन्द्रनाथ दास का निधन हुआ था।इन्हें श्जतिन दासश् के नाम से भी जाना जाता है, जबकि संगी साथी इन्हें प्यार से जतिन दास कहा करते थे। जतीन्द्रनाथ दास कांग्रेस सेवादल में सुभाषचन्द्र बोस के सहायक थे। भगत सिंह से भेंट होने के बाद ये बम बनाने के लिए आगरा आ गये थे। भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने जो बम केन्द्रीय असेम्बली में फेंके थे, वे इन्हीं के द्वारा बनाये गए थे। जेल में क्रान्तिकारियोंके साथ राजबन्दियों के समान व्यवहार न होने के कारण क्रान्तिकारियों ने 13 जुलाई, 1929 से अनशन आरम्भ कर दिया। जतीन्द्रनाथ भी इसमें सम्मिलित हुए। अनशन के 63वें दिन जेल में ही इनका देहान्त हो गया।

Top Stories