डेरा समर्थकोंं के आतंक पर गृह सचिव का बयान, ‘मौजूदा हालात में हम किसी पर दोष नहीं मढ़ सकते’

डेरा समर्थकोंं के आतंक पर गृह सचिव का बयान, ‘मौजूदा हालात में हम किसी पर दोष नहीं मढ़ सकते’

नई दिल्ली: CBI की विशेष अदालत ने जैसे ही डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को दुष्कर्म के मामले में दोषी ठहराया वैसे ही हिंसा भड़क गई और 31 लोगों की मौत हो गई । हरियाणा-पंजाब में फैली हिंसा के बाद सुरक्षा हालात की समीक्षा के लिए शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में एक उच्चस्तरीय बैठक हुई।

बैठक के बाद केंद्रीय गृह सचिव राजीव महर्षि ने कहा कि पंचकूला और सिरसा में स्थिति धीरे-धीरे सामान्य हो रही है। हरियाणा सरकार को बचाते हुए गृह सचिव ने ये भी कहाकि मौजूदा हालात में हम किसी पर दोष नहीं मढ़ सकते।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह के आवास पर हुई यह बैठक ढाई घंटे तक चली। इस बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल, गृह सचिव राजीव महर्षि, खुफिया ब्यूरो (IB) के प्रमुख राजीव जैन और गृह मंत्रालय के अन्य अधिकारी शामिल हुए।बैठक के बाद महर्षि ने संवाददाताओं को बताया, “बैठक के दौरान तीन मुद्दों पर चर्चा हुई।”

गृह सचिव ने कहा, “गृह मंत्री ने अदालत के फैसले के बाद हरियाणा में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति पर चर्चा की । उन्होंने राज्य के पुलिस महानिदेशक (DGP) से भी बात की। डीजीपी ने उन्हें बताया कि फैसले के बाद पंचकूला और सिरसा में स्थिति तनावपूर्ण रही, लेकिन अब सामान्य हो गई है।

बैठक में दिल्ली, पंजाब और राजस्थान की सुरक्षा पर भी चर्चा हुई। गृह सचिव ने कहा, “फैसले के बाद पंजाब और दिल्ली में हिंसा की बड़ी घटनाएं नहीं हुईं। यहां छोटी-मोटी घटनाएं हुईं, जिन्हें नियंत्रित कर लिया गया।” पचंकूला में सीबीआई की विशेष अदालत का फैसला आने के बाद भड़की हिंसा 31 लोगों की मौत हो चुकी है। डेरा समर्थकों द्वारा की गई हिंसा में कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया और संपत्तियां नष्ट कर दी गईं।

Top Stories