न्यूजीलैंड- आतंकी को वेलकम करते हुए कहा था ‘हलो ब्रदर’, दूसरों की जिंदगी बचाते हुए दे दी अपनी जान

न्यूजीलैंड- आतंकी को वेलकम करते हुए कहा था ‘हलो ब्रदर’, दूसरों की जिंदगी बचाते हुए दे दी अपनी जान

न्यू जीलैंड के क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में गोलियां बरसा 50 लोगों की हत्या करने का आरोपी शख्स जब मस्जिद में प्रवेश कर रहा था तो उसका दरवाजे पर ‘हलो ब्रदर’ कहकर स्वागत किया गया था। अल नूर मस्जिद के दरवाजे पर उस वक्त अफगानिस्तान से न्यू जीलैंड आकर बसने वाले दाउद नबी ने हत्यारे का मुस्कुराकर और भाई कहकर अभिवादन किया था। मरनेवाले 49 लोगों में एक 3 साल का बच्चा भी था।

3 साल का बच्चा पिता की बाहों में मारा गया 
इस हमले के मृतकों को उनके परिवार और अपने उतनी ही शिद्दत से यकीन कर रहे हैं। लोगों को अभी तक यकीन नहीं हो रहा है कि प्रार्थना के लिए गए उनके अपने अब कभी लौटकर नहीं आएंगे। मुसाद इब्राहिम मृतकों में सबसे कम उम्र का था। 3 साल के इस फुटबॉल फैन को याद करते हुए ट्विटर पर एक यूजर ने लिखा, ‘मुसाद इब्राहिम! दुखद है कि हमें छोड़कर चला गया। अपने पिता की बाहों में उसने आखिरी सांस ली। मेरे नन्हे दोस्त! तुम्हारी आत्मा को शांति मिले। तुम बहुत याद आओगे।’

14 साल के फुटबॉलर बेटे की मौत से सदमे में परिवार 

सैयद मिलने 14 साल का था और अल नूर मस्जिद में हुई गोलीबारी में उसकी जान चली गई। अपने बेटे को याद करते हुए उसके पिता जॉन मिलने ने कहा, ‘मैंने फर्श पर उसे खून में लथपथ देखा। मैंने अपने बेटे को हमेशा के लिए खो दिया… वह सिर्फ 14 साल का था। मेरा बेटा बहादुर था और फुटबॉल का शौकीन। यह देखना त्रासदी भरा है कि मेरे बेटे को गोली मार दी एक ऐसे शख्स ने जो किसी की परवाह नहीं करता और किसी चीज की परवाह नहीं करता।’

https://twitter.com/SayedNemr/status/1106658655112437760


दूसरों की जिंदगी बचाने के लिए आतंकी पर झपटे दाउद नबी

अफगानिस्तान से न्यू जीलैंड आकर बसे दाउद नबी को उनके परिचित मददगार शख्स के तौर पर याद करते हैं। 1970 के दशक में वह बतौर शरणार्थी न्यू जीलैंड आए थे। गनमैन से दूसरे लोगों को बचाने के लिए वह उस पर झपट पड़े और इस कारण लगी गोली से उनकी मौत हो गई। नबी के बेटे उमर ने एक स्थानीय मीडिया से बातचीत में बताया, ‘मुझे अपने बेस्ट फ्रेंड के पिता ने बताया कि मेरे पिता ने दूसरों की जिंदगी बचाने के लिए अपनी जान दे दी। वह अफगान समुदाय के बीच बहुत लोकप्रिय थे और उनके घर के दरवाजे सबके लिए खुले थे।’ गनमैन के लिए भी दरवाजा खोलनेवाले नबी ही थे और उन्होंने मुस्कुराकर उसे ‘हलो ब्रदर’ भी कहा था।

Top Stories